सलमान खान

0 141

सलमान खान का जन्म 27 दिसम्बर 1965 को हुआ, वह एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता हैं, जो बॉलीवुड की फिल्मों में दिखाई देते हैं। इन्होंने सन 1988 में अभिनय की दुनिया में अपनी पहली फिल्म बीवी हो तो ऐसी से शुरूआत की। सलमान को अपनी पहली बड़ी व्यावसायिक सफलता 1989में रिलीज़ हुई मैंने प्यार किया से मिली, जिसके लिए इन्हें फिल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ नवीन पुरूष अभिनेता पुरस्कार भी दिया गया। वे बॉलीवुड की कुछ सफल फिल्मों में स्टार कलाकार की भूमिका करते रहे, जैसे साजन (1991), हम आपके हैं कौन (1994) व बीवी नं. 1 (1999) और ये ऐसी फिल्में थीं जिन्होंने उनके करियर में पांच अलग सालों में सबसे अधिक कमाई की।

3

1999 में खान ने 1998 में कुछ कुछ होता है में उनकी अतिथि-भूमिका के लिए फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार जीता और तबसे इन्होंने कई आलोचनात्मक और व्यावसायिक फिल्मों में स्टार के रूप में सफलता प्राप्त की हैं, जिनमें हम दिल दे चुके सनम (1999), तेरे नाम(2003), नो एन्ट्री (2005) और पार्टनर (2007) शामिल हैं। इस तरह खान ने खुद को हिंदी सिनेमा के प्रमुख अभिनेताओं में सबसे महान अभिनेता की छवि बनाई। बाद में बनी फ़िल्में, वांटेड (2009), दबंग (2010), रेडी (2011) और बॉडीगार्ड (2011) उनकी हिन्दी सिने जगत में सर्वाधिक कमाई वाली फ़िल्में रही। किक (2014 फिल्म) सलमान की पहली फिल्म है जो 200 करोड़ के क्लब में शामिल हुई है। किक सलमान की सातवीं फिल्म है जो 100 करोड़ से ज्यादा का बिजनेस कर चुकी है। इससे पहले 6 फिल्में 100 करोड़ क्लब में शामिल हो चुकी है। एक था टाइगर – 198 करोड़, दबंग-2 – 158 करोड़, बॉडीगार्ड – 142 करोड़, दबंग – 145 करोड़, Ready (2011 film) – 120 करोड़, जय हो (फ़िल्म) – 111 करोड़ है।

खान कथानककार सलीम ख़ान और उनकी पहली पत्नी (प्रथम नाम सुशीला चरक) सलमा के ज्येष्ठ पुत्र है। उनके दादा अफगानिस्तान से आकार भारत में मध्य प्रदेश में बस गए थे। उनकी माँ मराठी हिंदू है। खान ने एक दफ़ा खुद भी कहा है की वे आधे हिंदू व आधे मुस्लिम है। उसकी सौतेली माँ हेलेन, एक पूर्व बॉलीवुड अभिनेत्री है जिन्होंने उनके साथ कुछ फ़िल्मों में साथ काम किया था। उनके दो भाई अरबाज खान और सोहेल खान है व बहनें अलवीरा और अर्पिता है। अलवीरा की शादी अभिनेता/निर्देशक अतुल अग्निहोत्री से हो चुकी है। खान ने अपने भाइयों अरबाज़ व सोहेल की ही तरह बांद्रा स्थित सेंट स्टेनिस्लॉस हाई स्कूल के माध्यम से अपनी स्कूली शिक्षा समाप्त की। इससे पहले, उन्होंने ग्वालियर स्तिथ सिंधिया स्कूल में अपने छोटे भाई अरबाज़ से साथ कुछ वर्ष पढ़ाई की।

सलमान खान ने अपने अभिनय की शुरुआत 1988 में फिल्म बीवी हो तो ऐसी से की जहां उन्होंने सहायक कलाकार की भूमिका निभाई है। बॉलीवुड फिल्म में उनकी पहली प्रमुख भूमिका सूरज आर. बड़जात्या की रोमांस फिल्म मैनें प्यार किया (1989) में थी। यह फिल्म भारत की सर्वाधिक कमाई वाली फिल्मों से एक फिल्म बन गई। इस फिल्म को के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर का सर्वश्रेष्ठ नए अभिनेता का पुरस्कार मिला व फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए नामांकन भी प्राप्त हुआ।

1990 में खान की केवल एक फ़िल्म रिलीज़ की गई जिसका नाम था बागी: अ रिबेल फॉर लव। इसमें दक्षिण भारत की अभिनेत्री नग़मा मुख्य भूमिका में थी। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल रही थी और इसके बाद वर्ष १९९१ इनके लिए सफल वर्ष साबित हुआ जब इन्होंने लगातार तीन सफल हिट फिल्मों में मुख्य भूमिका निभाई जिनमे ‘ शामिल है।प्रारंभ में ही बॉक्स ऑफिस पर इन फिल्मों की जबरदस्त सफलता के बावजूद 1992-93 में रिलीज हुई इनकी तमाम फिल्में असफल रही।

सूरज बड़जात्या के निर्देशन में दूसरी बार सहयोग करने से रोमांस फिल्म हम आपके हैं कौन में सह कलाकार माधुरी दीक्षित के साथ खान ने 1994 में अपनी पहली सफलता का इतिहास पुन: दोहराया। उस साल की यह सबसे बड़ी हिट फिल्म थी और बॉलीवुड में सबसे व्यावसायिक सफलता के बावजूद इस फिल्म को दूर दूर से प्रशंसा मिलती रही और खान को भी उनके प्रदर्शन की तारीफ मिली जिसके चलते उन्हें दूसरी बार फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार के लिए नामांकन मिला। उस वर्ष खान की भूमिका वाली तीन और फिल्में रिलीज हुई लेकिन किसी ने भी इतनी सफलता नहीं दिलाई जितनी कि पहली वाली फिलम ने दिलाई थी। हालांकि सह कलाकार आमिर ख़ान के साथ इनकी फिल्म अंदाज अपना अपनाके रिलीज होने के बाद से ही इनके प्रदर्शन के लिए इन्हें प्रशंसा मिल गई थी। १९९५ में इन्होंने राकेश रोशन की ब्लॉकबस्टर फिल्म करण अर्जुन से अपनी सफलता को मजबूत किया जिसमें शाहरुख़ ख़ान इनके सह कलाकार थे। यह फिल्म वर्ष की दूसरी सबसे बड़ी हिट फिल्म और इसमें करन की भूमिका ने उसके नाम को एक बार फिर फिल्मफेयर के सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए नामित कर दिया गया जिसमें करन अर्जुन के सह कलाकार शाहरूख खान को यह पुरस्कार दे दिया गया था।

1996 के बाद दो सफल फिल्में दी हैं। इनमें से पहली संजय लीला भंसाली की दिशात्मक शुरूआत ख़ामोशी: द म्यूज़िकल, थी जिसमें सह कलाकार के रूप में मनीषा कोइराला, नाना पाटेकर और सीमा बिस्वास थीं। हालांकि यह बॉक्स ऑफिस पर असफल रही फिर भी समीक्षकों द्वारा सराही गई थी। इनकी अगली सफलता सनी देओल और करिश्मा कपूर के साथ राज कंवर की एक्शन हिट फिल्म जीत से रही। 1997 में इनकी दो फिल्में जुड़वां और औजार रिलीज़ हुई। पहली वाली फिल्म डेविड धवन के निर्देशन वाली एक हास्य फिल्म थी जिसमें जन्म के समय बिछुड़ जाने के कारण दोहरी भूमिका निभाई थी।

खान ने 1998 में पांच अलग अलग फिल्मों में काम किया जिसमें उनकी पहली रिलीज प्यार किया तो डरना क्या वर्ष की सबे बड़ी सफल फिल्म साबित हुई इसमें इनकी सह कलाकार काजोल थीं। इसके बाद साधारण सी सफलता दिलाने वाली इनकी फिल्म जब प्यार किसी से होता है आई। खान ने उस युवा पुरूष की भूमिका निभाई थी, जिसे ऐसे बच्चे को संरक्षण में रखना है, जो उसका बेटा होने का दावा करता है। इस फिल्म में खान का प्रदर्शन उनके लिए कई सकारात्मक सूचना एवं उनके आलाचकों से इनके पक्ष में खबरें लेकर आया। वे करन जौहर के निर्देशन वाली पहली फिल्म कुछ कुछ होता है के ही चक्कर काटते रहे। शाहरूख खान और काजोल के साथ सह कलाकार के रूप में इन्होंने केवल अमन की भूमिका करने वाले केमियो तक ही बढ़ पाए। लेकिन, यह उसके लिए फायदेमंद सिद्ध हुई क्योंकि उनके प्रदर्शन ने उन्हें दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता की श्रेणी में फिल्मफेयर पुरस्कार दिला दिया।

1999 में खान ने तीन हिट फिल्मों हम साथ-साथ हैं में भूमिका निभाई जिन्होंने तीसरी बार सूरज बड़जात्या के साथ इनके संबंधों को मजबूत किया बीवी नं.1 उस साल की सबसे बड़ी फिल्म रही और हम दिल दे चुके सनम ने आलोचकों का मुंह बंद कर दिया और इस फिल्म ने इन्हें एक बार फिर सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता के फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए नामित करवा दिया।

वर्ष 2000 में इन्होंने छ: फिल्मों में काम किया जो आलोचकों की दृष्टि में व्यापार करने में असफल रहीं, इनमें से दो फिल्में कुछ सफल रहीं जैसै हर दिल जो प्यार करेगा और चोरी चोरी चुपके चुपके और इन दोनों में रानी मुखर्जी और प्रिटी जिन्टा इनकी सह कलाकार थीं। वर्ष 2001 तक देर से रिलीज होने वाली इनकी फिल्म चोरी चोरी चुपके चुपके, में इनके प्रदर्शन की सराहना की गई। सरोगेट चाइल्ड बर्थ के मुद्दे को सुलझाने वाली बालीवुड की यह पहली फिल्म थी जिसमें खान ने एक धनी उद्योगपति की भूमिका निभाई थी जो अपनी पत्नी के बांझ होने के बाद एक सरोगेट मदर किराए पर रख लेता है। आलोचकों ने इनके इस रूख को गंभीर भूमिका के प्रति लिया जिसमें इनके पहले की भूमिकाओं की तुलना में अधिक पैनापन दिखाई दिया। वर्ष 2002 में इन्होंने विलंब से रिलीज होने वाली फिल्म हम तुम्हारें हैं सनम में काम किया जो बॉक्स ऑफिस पर अर्ध हिट रहीं।

खान की अगली फिल्में बॉक्स ऑफिस पर तब तक असफल होती रही जब तक उन्होंने 2003 में तेरे नाम फिल्म से अपनी वापसी की। इस फिल्म से बहुत कमाई की गई और इसके आलोचकों ने इसके प्रदर्शन की तारीफ की जिसमें तरन आदर्श नामक फिल्म में टी की तर्ज पर बनी इस फिल्म में सलमान खान ने अच्छा अभिनय किया था। वह क्रम में अग्नि को सांस के रूप में ग्रहण करता है जिससे परेशानी होती है। लेकिन बाहर के मुश्किल हालातों में रहने वाला एक संवेदनशील व्यक्ति बाद में सबसे आगे आ जाता है। उनका भावनात्मक रूप से चिल्लाना बेहद शानदार रहा। इन्होंने मुझसे शादी करोगी (2004) और नो एन्ट्री (2005) जैसी हास्य फिल्मों के द्वारा बॉक्स ऑफिस पर अपनी सफलता जारी रखी। वर्ष 2006 इनके लिए अत्यधिक असफलता का वर्ष रहा जिसमें इनकी फिल्में जान-ए-मन और बाबुल दोनों ही बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह पिट गईं।

खान ने वर्ष 2007 की शुरूआत सलाम ए इश्क फिल्म से की जो बॉक्स ऑफिस पर कुछ अच्छा न कर सकी। उनकी अगली रिलीज पार्टनर ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा कार्य किया और ब्लॉकबस्टर की छवि दिलवाई। इसके बाद वे हालीवुड की एक मुवी में Marigold: An Adventure in India अमरीकी महिला कलाकार अली लार्टर के साथ दिखाई दिए। एक भारतीय आदमी और अमरीकी महिला की प्रेम कहानी बताने वाली यह फिल्म व्यापार और आलोचकों की दृष्टि से एक बड़ी असफलता रही।

वर्ष 2008 में खान ने अपनी गेम शो दस का दम के साथ छोटे परदे पर उतरे जो अंतरराष्ट्रीय शो पॉवर ऑफ़ टेन पर आधारित था।

खान लेखक सलीम खान और उनकी पहली पत्नी सलमा खान के सबसे बड़े बेटे हैं। उनकी सौतेली माँ हेलन बॉलीवुड के बीते ज़माने की एक मशहूर अभिनेत्री हैं, जिन्होंने उनके साथ खामोशी (1996) और हम दिल दे चुके सनम (1999) में सह-कलाकार के रूप में कार्य किया था। इनके दो भाई, अरबाज़ ख़ान और सोहेल खान और दो बहनें, अल्वीरा एवं अर्पिता हैं।

खान एक समर्पित बॉडीबिल्डर हैं। वे प्रतिदिन मेहनत करते हैं और मूवी तथा स्टेज शो में अपनी कमीज उतारने के लिए प्रसिद्ध हैं। अमरीका की पीपुल पत्रिका द्वारा वर्ष 2004 में इन्हें दुनिया का 7वां सबसे सुंदर पुरूष और भारत के सबसे सुंदर पुरूष का खिताब मिला। अपने कैरियर में खान विभिन्न धर्मार्थ संस्थाओं से जुड़े हुए हैं। बहुत सी अभिनेत्रियों के साथ रोमांस और अपनी पूर्व प्रेमिका ऐश्वर्या राय, सोमी अली और संगीता बिजलानी के साथ संबंधों के बावजूद खान भारतीय मीडिया जगत में बालीवुड का सबसे चहेता कुंवारा अभिनेता बनता रहा है। वे 2003 से ही मॉडल से अभिनेत्री बनी कैटरीना कैफ के साथ डेटिंग करते आ रहे हैं।

15 जनवरी 2008 को लंदन के मैडम तुसाद संग्रहालय में खान की आदमकद मोम की प्रतिमा स्थापित की गई और इस प्रकार संग्रहालय में मोम की प्रतिमा के रूप में दिखाई देने वाले वे चौथे भारतीय अभिनेता बन गए।

28 सितम्बर 2002, को लापरवाही से गाड़ी चलाने के लिए गिरफ्तार किया गया। उनकी कार के मुम्बई में एक बेकरी से टकरा जाने से सड़क की पगडण्डी पर सो रहा एक व्यक्ति मारा गया और अन्य तीन इस दुर्घटना में घायल हो गए। उनके खिलाफ जानबूझकर अपराध करने के लिए आरोप लगाए गए किंतु बाद में उन्हें छोड़ दिया गया और उन्हें दोषी नहीं पाया गया। तथापि, इस घटना के संबंध में वे कुछ कम गंभीर प्रवृति के प्रकरणों की श्रृंखलाओं में अभी भी लटके हुए हैं।

17 फरवरी, 2006 को खतरे में पड़ी एक वन्य जाति चिंकारा का शिकार करने के लिए एक वर्ष की जेल भी हुई थी। उच्च अदालत में अपील के दौरान सजा पर रोक लगा दी गई थी।

10 अप्रैल, 2006, को खतरे में पड़ी एक वन्य प्रजाति का शिकार करने के लिए पाँच वर्ष् की जैल की सजा सुनाई गई थी। उन्हें रिमांड पर जोधपुर जेल लाया गया जहां वे 13 अप्रैल तक रहे तथा इसके बाद उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया थ।

24 अगस्त 2007, को जोधपुर सत्र न्यायालय ने, चिंकारा शिकार के मामले में इन्हें वर्ष 2006 में सुनाई गई 5 वर्ष की कैद के निर्णय के खिलाफ दायर याचिका को अस्वीकार कर दिया बया था। सुनवाई के समय खान किसी स्थान पर शूटिंग में व्यस्त थे और इनकी बहन ने अदालत की कार्यवाहियों में अपनी हाजिरी लगाई। एक दिन बाद, राजस्थान की एक अदालत ने शिकार करने के एक मामले में इन्हें जेल भेजने वाले एक निर्णय को मानते हुए जोधपुर में गिरफ्तार कर लिया गया। 31 अगस्त (अगस्त 31), 2007, के दिन जोधपुर की सेंट्रल जेल से खान को जमानत पर रिहा कर दिया गया जहां उन्होंने छह दिन बिताए थे।

अभिनेत्री ऐश्वर्या राय के साथ इनकी हिचकौले खाती दोस्ती भारतीय मीडिया जगत की सुर्खियां बनी हुई थी और लगातार इनके बारे में अनाप-शनाप बातें लिखी जाती थीं। मार्च 2002 में इनके संबंधों के टूटने के बाद राय ने इन्हें परेशान करने के लिए अदालत में केस दर्ज करवा दिया। इन्होंने दावा किया कि खान उनके रिश्‍तों को तोड़ने की शर्तों के साथ संबंध नहीं बना पाए हैं और उन्हें परेशान कर रहे हैं इसलिए इनके माता पिता ने उनके खिलाफ शिकायत दर्ज की है।

वर्ष 2005 में मुंबई पुलिस द्वारा 2001 में रिकार्ड किए गए एक मोबाइल फोन की गैर कानूनी प्रति के बारे में समाचार प्रकाशित किए गए। यह एक ऐसा कॉल लग रहा था जिसमें इन्होंने अपनी पूर्व प्रेमिका ऐश्वर्या राय को मुंबई की अपराध हस्तियों द्वारा आयोजित सामाजिक गतिविधियों में अपनी उपस्थिति देने के लिए धमकी दी थी। इस फोन में संगठित अपराध जगत से संबंध तथा दूसरे अभिनेताओं के बारे में अनादरसूचक शब्दों के बारे में अफवाहें फैली हुई थी। तथापि, इस कथित टेप की जांच चंडीगढ़ की सरकारी फोरेन्सिक लैब में की गई जिसमें इसे झूठा पाया गया। 2007 में उन्हें राजीव गांधी पुरस्कार मनोरंजन के लिए अपने में उत्कृष्ट उपलब्धि है।

Leave a Reply