महेश भट्ट

0 203

महेश भट्ट का जन्म 20 सितम्बर, 1948 को हुआ, वह बॉलीवुड के बेहतरीन निर्माता, निर्देशक और स्क्रीनराइटर है. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत अर्थ, सारांश, जनम, नाम, सड़क और ज़ख्म जैसी फिल्मों का निर्देशन किया. उन्होंने जिस्म, मर्डर और वोह लम्हे जैसी फिल्मों का निर्माण और लेखन भी किया जो बॉक्स ऑफिस पर सफल रही.
महेश भट्ट का जन्म नानाभाई भट्ट और एक्ट्रेस शिरीन मोहम्मद अली के घर जन्म लिया. महेश भट्ट के पिता गुजराती है और उनकी माता के पिता तमिल ब्राह्मण थे जिन्होंने लखनऊ की मुस्लिम लड़की से शादी की थी.

mahesh-bhatt

महेश भट्ट के भई मुकेश भट्ट भी फिल्म निर्देशक और निर्माता है. उन्होंने अपनी पढाई डॉन बोस्को हाई स्कूल, माटुंगा से की और अपनी गर्मी की छुट्टियों में ही कुछ पैसे कमाना शुरू कर दिया था. वह राज खोसला के साथ अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर. महेश भट्ट ने किरण से शादी की और महेश भट्ट अपने स्कूल के दौरान किरण से मिले थे. उनके द्वारा निर्देशित फिल्म ‘आशिकी’ उन्ही की असल लव स्टोरी से प्रेरित थी. किरण और महेश भट्ट के 2 बच्चे है पूजा और राहुल भट्ट. शादी के कुछ समय बाद कुछ कडवाहट के कारण दोनों अलग हो गए और महेश भट्ट ने सोनी राज़दान से शादी की और उनके 2 बच्चे है शाहीन और आलिया भट्ट. 26 साल की उम्र में महेश भट्ट ने बतौर निर्देशक फिल्म ‘मंजिले और भी है’ से 1974 में डेब्यू किया था. 1979 में आई फिल्म ‘लहू के दो रंग’ ने महेश भट्ट को 2 फिल्मफेयर अवार्ड्स दिलाये. इस फिल्म में शबाना आज़मी और विनोद खन्ना थे. उनकी ज़िन्दगी की पहली हिट फिल्म थी अर्थ जिसने उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया. 1984 में उनकी निर्देशित फिल्म सारांश बहुत चर्चित रही और 14वें मास्को इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में पहुची.

इसके बाद उन्होंने अपना प्रोडक्शन बैनर ‘विशेष फिल्मस’ का निर्माण किया जिसके अंतर्गत उन्होंने डैडी, स्वयं, आवारगी, आशिकी, दिल है कि मानता नहीं, सड़क और कई बेहतरीन फिल्मों का निर्माण किया. महेश भट्ट ने अपनी बड़ी बेटी पूजा भट्ट के साथ मिलकर बॉलीवुड में कई अच्छी फिल्मे दी. 1994 में आई फिल्म ‘क्रिमिनल’ और ‘हम हैं रही प्यार के’ (1993) भी बॉक्स ऑफिस पर सफल रही.

इसके बाद महेश भट्ट ने टेलीविज़न की ओर रुख किया और दो टीवी सीरीज स्वाभिमान (1995) और कभी कभी (1997) का निर्माण किया जिसे अनुराग कश्यप ने लिखा था.

1996 में उन्होंने फिल्म दस्तक बनाई जो मिस यूनिवेर्स सुष्मिता सेन की पहली फिल्म थी. फिर 1997 में तमन्ना और 1998 में फिल्म डुप्लीकेट बनाई. 1993 के दंगों के लम्बे समय के बाद भट्ट ने 1998 में अजय देवगन और पूजा भट्ट संग फिल्म ज़ख्म लेकर आए जो सफल रही. बतौर निर्देशक महेश भट्ट ने फिल्म कारतूस बनाई थी इसके बाद वह स्क्रीनराइटिंग और स्क्रीनप्ले करने लगे और पिछले 20 सालों में महेश भट्ट ने कई बेहतरीन फ़िल्में दी जिनमे दुश्मन, राज़, मर्डर, गैंगस्टर, वोह लम्हे भी शामिल है. वोह लम्हे एक्ट्रेस परवीन बाबी की ज़िन्दगी पर आधारित थी.

महेश भट्ट ने फिल्मों और टीवी सीरीज के अलावा थिएटर में भी हाथ आजमाया, उन्होंने मुन्ताधर-अल-ज़ैदी की किताब ‘द लास्ट सेलूट’ नाम का एक प्ले बनाया जिसे अरविन्द गौर ने निर्देशित किया था. इसके बाद उन्होंने अर्थ, डैडी प्ले का भी निर्माण किया जो सफल रहा.

महेश भट्ट की बेटी पूजा भट्ट एक्ट्रेस और निर्देशक है वही आलिया और राहुल भट्ट एक्टर्स है. इमरान हाशमी उनके नेफ्यू है और वह भी बॉलीवुड के जाने-माने एक्टर है.
इन सब के अलावा विशेष फिल्मस ने मुकेश भट्ट और महेश भट्ट के साथ कई अलग अलग प्रोजेक्ट्स पर भी काम किया. फिलहाल महेश भट्ट ने थिएटर प्ले में अपना पूरा ध्यान रखा है और उन्होंने पाकिस्तान में भी प्ले किया जिसका नाम ‘मिलने दो’ था.

Leave a Reply