Browsing Category

फ्लैश बैक

शबाना आजमी व्यस्त हुई

मायापुरी अकं 4,1974पिछले दिनों शबाना आजमी ने एक के बाद एक ढेर सारे कांट्रेक्ट साइन किए (यह शबाना की योग्यता की कम, हीरोइनों के अकाल की अधिक निशानी है !) बस शबाना का दिमाग सफलता के गर्व में थोड़ा-थोड़ा संतुलन से परे हट गया।…
Read More...

रेखा खाती है चीनी झिंगा

मायापुरी अकं 4,1974रेखा को चीनी झिंगा (झिंगरा नही) खाने का बहुत शौक है झिंगा खाने वह अक्सर एयरकंडीशंड मार्केट तारदेव के निकट एक रेस्टोरेंट चाइनिज प्लेस में आती है। रेखा ने यही रेस्टोरेंट क्यों चुना ? बात यह है कि इस…
Read More...

राजेश खन्ना का धमाका

मायापुरी अकं 4,1974पिछले दिनों राजेश खन्ना ने एक ‘धमाका’ करने के लिए प्रैस वालों को अपने घर बुला लिया। जब प्रैस वाले काका के घर पहुंच गये तो काका ने कहा इस प्रैस कांफ्रेस का कोई विशेष कारण नही। क्या मुझे इतना भई अधिकार नही मैं आप…
Read More...

मुमताज बनी श्रीमती माधवानी

मायापुरी अकं 4,1974ओबरॉय शेरागटन में हुये एक फिल्मी समारोह में हमारी भेंट श्रीमती मयूर माधवानी (दुर्बल स्मरण शक्ति के पाठकों के लिए मुमताज) से हो गई। श्रीमती माधवानी यानी मुमताज पहले से कुछ लम्बी दिख रही थी (अरे बाबा, यह गलत मत…
Read More...

बिन्दु के हेयर स्टाइल

मायापुरी अकं 4,1974बिंदु वैसे ही बहुत सुंदर है। इस पर उसका केश विन्यास व नये-नये परिधान सोने पर सुहागे का काम करते है, बिंदु के वस्त्र चुनने व केश संवारने के पीछे दो चीनी हाथ है। ये हाथ है आरलीन के। आरलीन चीनी सुंदरी है।…
Read More...

मोहन चोटी ‘जान हाजिर’ है

मायापुरी अकं 4,1974जिन पाठकों को लवलीन की फिल्म ‘जान हाजिर है’ का नाम कुछ विचित्र लगा हो, उन्हें हम एक फिल्म का विचित्र नाम बतायेंगे। फिल्म है कॉमेडियन मोहन चोटी की ‘धोती, लोटा और चोपाटी’ (हमारे ख्याल से ‘धोती, लोटा और…
Read More...

विजय आनन्द-फ्लॉप पर फ्लॉप

मायापुरी अंक 4,1974विजय आनंद की एक के बाद एक कई फिल्में फ्लॉप हुई। इन असफलताओं से घबराकर उसने नई फिल्में लेनी बंद कर दी और अपना ध्यान पूना के आचार्य रजनीश के श्रीचरणों में लगाया। इससे पत्रकार भाइयों ने भी स्वाभाविक अनुमान…
Read More...

समाचार दर्शन

(मायापुरी अंक 3,1974)पिछले सप्ताह मार-घाड़ फिल्मों के विशेषज्ञ होमी वाडिया ने वसंत पिक्चर्स के अन्तर्गत बिजली और तूफान’ का मुहूर्त किया। जाहिरा पहली बार इसमें डबल रोल निभाएगी। अरविन्द फराड़ (बाजार बन्द करो’ फेम) फिल्म का नायक है।…
Read More...

बाप बेटी का मधुर मिलन

(मायापुरी अंक 3,1974)रेखा जब दस वर्ष की बच्ची थी तो उससे बहुत पहले ही उसके बाप जेमिनी गणेशन उसकी मां से सम्बंध विच्छेद हो गए थे। रेखा कभी अपने बाप से मिलना चाहती थी तो वह नही मिलता था। वह यह जाहिर करना नही चाहता था कि रेखा…
Read More...

लीना चन्दावरकर की शादी

(मायापुरी अंक 3,1974)लीना चन्दावरकर का जब भी किसी हीरो से नाम जाता है तो फौरन ही उससे या किसी अन्य आदमी से उसकी शादी समाचार भी आने लगते है। ऐसा ही धर्मेन्द्र के समय हुआ और संजीव कुमार आदि के समय भी ऐसी खबरें उड़ी थी। अब जबकि उसका…
Read More...