Browsing Category

रिव्यूज

रिव्यु – फिल्म ‘रंग रसिया’

कला का बेजोड़ नमूनामिर्च मसाला, मंगल पांडे जैसी लीक से हटकर फिल्में बनाने वाले निर्देषक केतन मेहता ने करीब पांच साल पहले रंजीत देसाई के उपन्यास राजा रवि वर्मा पर फिल्म बनाने का बीड़ा उठाया था। लेकिन बाद में फिल्म अपने विषय को लेकर…
Read More...

रिव्यु- फिल्म “रंग रसिया”

कला का बेजोड़ नमूनामिर्च मसाला, मंगल पांडे जैसी लीक से हटकर फिल्में बनाने वाले लेचाक निर्देशक केतन मेहता ने करीब पांच साल पहले रंजीत देसाई के उपन्यास राजा रवि वर्मा पर फिल्म बनाने का बीड़ा उठाया था। लेकिन बाद में फिल्म अपने विशय को…
Read More...

रिव्यु – फिल्म‘ द शौकीन्स’ – सौ करोड़ क्लब तक पहुंचना मुश्किल

अभिषेक शर्मा द्वारानिर्देशित तथा तिग्मांषू धूलिया और साई कबीर द्वारा लिखित फिल्म ‘द शौकीन्स’ ओरीजनल शोकीन का सिर्फ नाम ही भुना पाई है वरना ओरीजनल के ये आस पास भी नहीं ठहर पाती । फिल्म में बढि़या आर्टिस्ट हैं बावजूद इसके ये एक…
Read More...

फिल्म ‘रॅार- टाइगर ऑफ़ द सुंदरबन’- बदले की कहानी

लेखक निर्देशक कमल सदाना ने अपनी रोमांचक फिल्म ‘रॅार- टाइगर ऑफ़ द सुंदरबन’ में अंत तक ये स्पष्ट नहीं किया कि फिल्म बदले पर आधारित या टाइगर बचाव पर ।सुंदरबन में एक किताब लिखने गये आर्मी मैन अभिनव शुक्ला के भाई का एक बाघिन…
Read More...

फिल्म सुपर नानी- अतिसाधारण

दिल, बेटा और इष्क जैसी फिल्में बनाने वाले निर्देषक इन्द्र कुमार ने पहले तो ग्रैंड मस्ती जैसी कामेडी बनाकर लोगों को चौंका दिया था और अब उन्होंने एक बार फिर ‘सुपर नानी’ जैसी अधकचरी फिल्म बना कर हैरान कर दिया है । अस्सी के दषक में…
Read More...

फिल्म ‘ हैप्पी न्यू ईयर’ रिव्यु

फिल्म ‘ हैप्पी न्यू ईयर’ - बारह मसाले तेरह स्वादशाहरूख खान और फराह खान जब कोइ फिल्म बनाते हैं तो उसमें वो बारह मसालें तेरह स्वाद की तरह होती है । यानि उसमें सब कुछ होता है । दूसरे वो फिल्म ऐसी होती है कि उसे पूरा परिवार एक साथ बैठकर…
Read More...

फिल्म ‘सोनाली केबल’ – असरदार प्रभावशाली नहीं

कुछ अरसा पहले मुम्बई में केबल वॉर को लेकर काफी खून बहा था। निर्देशक चारूदत्त आचार्य की फिल्म ‘सोनाली केबल’ में इस क्षेत्र में आई मल्टीनैशनल कंपनीयों के दबदबे के तहत छोटी कम्पनियों को कब्जाना दिखाया गया है। फिल्म की नायिका का अपनी केबल कंपनी…
Read More...

फिल्म ‘इक्किस तोपों की सलामी’

राजनीति पर व्यंग्य भरा प्रहाररविन्द्र गौतम द्वारा निर्देशित हास्य फिल्म ‘इक्किस तोपों की सलामी’ आम आदमी और राजनीति को लेकर तीखा व्यंग्य है। इसे हम ड्रामा के अलावा राजनैतिक स्टायर भी कह सकते हैं। अनुपम खेर नगर पालिका का एक ईमानदार…
Read More...

फिल्म ‘जिगरिया’ अस्सी के दशक की लवस्टोरी

जिगरिया अस्सी के दशक की ,एक,ऐसी लव स्टोरी है जिसका अंत दुखद होता है। निर्माता विनोद बच्चन तथा राजू चड्डा की इस फिल्म को निर्देशित किया है राज पुरोहित ने। हालांकि उन्होंने उस दौर के वातावरण, बोलचाल तथा उस दौर के प्यार मोहब्बत को दिखाने…
Read More...