वो तीन शब्द जिसकी वजह से लाखों औरतों कीजिन्दगी तंग होती आ रही है क्या यह आग ताकयामत नहीं बुझेगी ?

0 34

हम इस बारे में निश्चित नहीं हैं कि यह क्रूर प्रथा इतिहासकारों मौलवियों में कब लागू हुई और धर्मशास्त्रियों के अपने विचार हैं कि यह अधिकांश मुसलमानों के बीच जीवन का एक तरीका बन गया है लेकिन यह जीवन का एक तथ्य है जिसे व्यवहार में लाया गया है और लाखों महिलाओं को इस स्थिति में रखा गया है जिसमे हर तरह की मुसीबत में और यहां तक कि एक ऐसी जिंदगी जियें, जो ऐसी प्रथा से प्रभावित महिलाओं के प्रति कोई जिम्मेदारी नहीं है, जिन्हें हम मवेशी की तरह मान सकते हैं

‘‘तलाक तलाक तलाक‘‘ शब्द उन पुरुषों के लिए एक आसान तरीका बन गया है जो अपनी बवियों को केवल तीन शब्द मौखिक रूप से या यहां तक कि एसएमएस व्हाट्सएप या किसी भी सोशल मीडिया पर कहकर छुटकारा पा सकते हैं। इसे विभिन्न स्तरों पर लाने के लिए लगातार प्रयास किया गया है। इस प्रथा का अंत जो समाज सुधारकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और यहां तक कि धार्मिक सुधारकों द्वारा किया गया था, लेकिन दुनिया में यहाँ तक विशेष रूप से भारत में कहीं भी कुछ भी नहीं बदल रहा था। लंबे समय से इस प्रथा के खिलाफ जागरूकता का एक प्रमुख संकेत था, लेकिन इसको मोदी सरकार का श्रेय कहा जाना चाहिए जिसने ज्वलंत मुद्दे पर इस प्रथा को बंद करने का फैसला किया और इसने एक कानून बनाने का प्रयास किया। तलाक की प्रथा भारत में ट्रिपल तलाक का उपयोग और स्थिति विवाद बहस का विषय रही है। इस प्रथा पर सवाल उठाने वालों ने न्याय, लैंगिक समानता मानवाधिकारों और धर्मनिरपेक्षता के मुद्दों को उठाया है। बहस में भारत सरकार और भारत की सर्वोच्च न्यायालय शामिल हैं और भारत में एक समान नागरिक संहिता (अनुच्छेद 44) के बारे में बहस से जुड़ा है। भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने तत्काल ट्रिपल तलाक को असंवैधानिक माना। पैनल में शामिल पांच न्यायाधीशों ने कहा कि ट्रिपल तलाक की प्रथा असंवैधानिक है। शेष दो ने संवैधानिक होने की घोषणा की, साथ ही साथ सरकार को एक कानून बनाकर प्रथा पर प्रतिबंध लगाने की भी घोषणा की। मोदी सरकार ने द मुस्लिम वुमन (प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स ऑन मैरिज) बिल, 2018 नामक एक विधेयक तैयार किया और इसे संसद में पेश किया, जिसे दिसंबर 2018 में लोकसभा द्वारा पारित किया गया था। इस विधेयक ने तत्काल ट्रिपल तलाक को किसी भी रूप में अवैध और शून्य बना दिया, पति को तीन साल तक की जेल। हालांकि, लोकसभा में पारित बिल को राज्यसभा में कड़े प्रतिरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन अंत में दिसंबर में पारित किया गया। लेकिन कोई यह कैसे सुनिश्चित करेगा कि प्रथा को समाप्त कर दिया गया है या फिर उसे बंद कर दिया गया है? इस विषय ने कई फिल्म निर्माताओं को वर्षों से आकर्षित किया है लेकिन एकमात्र अग्रणी निर्देशक जो एक प्रभाव बनाने में सफल हो सकता था वह थे डॉ. बी आर चोपड़ा जिन्होंने अपनी फिल्म ‘‘निकाह‘‘ में इस विषय को छुआ था। लेकिन अनुभवी निर्देशक लेख टंडन ने इस लड़ाई को छोड़ने से इंकार कर दिया और त्रिनेत्र बाजपेयी को एक आदर्श निर्माता के रूप में पाया, जो अपनी फिल्म ‘फिर उसी मोड़ पर’ के माध्यम से इस धर्मयुद्ध को आगे बढ़ाने के लिए इस रास्ते पर चल पड़े, जो कि पुराने विषय के लिए केवल एक नया नाम था तलाक । दोनों व्यक्तियों ने फिल्म को उस तरह से बनाने में कोई समझौता नहीं किया जो वे चाहते थे और फिल्म में एक बहुत ही मजबूत संदेश देने में सफल रहे, जिसमें मनोरंजन के सभी मूल तत्व भी हैं।

हम आशा करते हैं और हमें यकीन है कि कई अन्य लोग निश्चित होंगे, जब वे फिल्म ‘फिर उसी मोड़ पर’ देखेंगे की कैसे द्रुतशीतन प्रथा हमेशा के लिए दफन हो गयी है।

लेकिन, क्या यह सालों से जलती हुई आग इतनी आसानी से और इतनी जल्दी बुझाई जा सकेगी ?

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

Leave a Reply