Browsing Category

जे ए ज़ौहर

INTERVIEW: एक सादगी पसंद हीरोइन का असाधारण इतिहास नूतन

मायापुरी अंक, 58, 1975 एक अभिनेत्री की उम्र कम से कम पांच साल और अधिक से अधिक दस साल होती है। किंतु अकेली नूतन ही एक ऐसी अभिनेत्री हैं जिन्होंने पिछले वर्ष अपने फिल्मी जीवन के 25 वर्ष पूरे किये हैं। इसलिए वह अपने आप में एक इतिहास है और इस…
Read More...

अमिया चक्रवर्ती की खोज – दिलीप कुमार

मायापुरी अंक, 57, 1975 पहले जमाने में अभिनेता निर्देशक का कितना आदर करते थे, इसकी एक मिसाल आपको दिलीप कुमार और स्वं. अमिया चक्रवर्ती की एक घटना से भलीभांति मालूम हो जाएगी। जब कि आज तो निर्देशकों की गिनती भी स्टार्स के चमचों में होती है।…
Read More...

अशोक कुमार – भूत की कहानी

मायापुरी अंक, 57, 1975 जिन दिनों बॉम्बे टॉकीज के 'महल' (सितारे-अशोक कुमार, मधुबाला) का निर्माण हो रहा था। स्टूडियो में भूत के आस्तित्व की बड़ी चर्चा थी। लोगों का विचार था कि बॉम्बे टॉकीज के संस्थापक स्व. हिमांशुराय का भूत रात को चक्कर…
Read More...

INTERVIEW!! विलेन की इमेज बदलने वाले अभिनेता – प्रेम चोपड़ा

मायापुरी अंक, 57, 1975 सभंवत: प्रेम चोपड़ा ऐसे पहले विलेन हैं जिन्होंने भारतीय फिल्मों में विलेन की इमेज बदली है वरना हिंदी फिल्मों में विलेन अधिकतर भयानक ही हुआ करते थे। प्रेम चोपड़ा के आने के पश्चात लोगों को लगा कि वाकई जिंदगी में ऐसे…
Read More...

एक हारी हुई औरत जीती हुई अभिनेत्री – नादिरा

मायापुरी अंक 54,1975 अपने समय की हसीन अभिनेत्री नादिरा एक अर्से से एक हारी हुई औरत की तरह जिंदगी गुज़ार रही थी। और औरत बस एक बार हार जाए तो उसके पास कुछ भी नही बचता न सपने, न ख्याल, न तमन्ना न इज्जत, न अस्मत नादिरा ने अपनी हार का…
Read More...

धुन अच्छी हो तो दिल में उतर जाती है – हसरत जयपुरी

मायापुरी अंक 53,1975 हसरत जयपुरी फिल्म इंडस्ट्री के गिने चुने गीतकारों में से एक हैं। उन्होंने लगभग सभी टॉप के संगीतकारों के साथ काम किया है। और उनके गाने सदा ही हिट रहे हैं। उनके घर पर हुई मुलाकात में मैंने उनके कुछ ऐसे गीतों के…
Read More...

संघर्ष से सफलता तक मजरूह सुल्तानपुरी

मायापुरी अंक 53,1975 लगभग 27 वर्ष पहले की बात हैं मियां जी कारदार एक महान चित्र ‘शहजहां’ बनाने वाले थे। उनके संगीतकार नौशाद और गीतकार डी.एन. मधोक का आपस में मन-मुटाव हो गया था। इसलिए शाहजहां के गीत लिखने के लिए एक गीतकार की जरूरत थी।…
Read More...

ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी

मायापुरी अंक 52,1975 कहते हैं कि हर चीज़ की अधिक मात्रा हानिकारक होती है। इसीलिए इस इंडस्ट्री में जिस किसी की अधिक पब्लिसिटी होती है उससे लोगों की उतनी ही अधिक आशायें बंध जाती हैं। और अब चीज उन आशाओं पर पूरी नहीं उतरती तो बड़ी निराशा…
Read More...

गोपी कृष्ण – आग्रहन टाल सके

मायापुरी अंक 52,1975 ‘साकी’ फिल्म (निर्देशक एच.एस. खैल) के नृत्य निर्देशक कृष्ण कुमार का निर्माण काल में ही देहांत हो गया था। कृष्ण कुमार की जगह गोपी कृष्ण का चयन हुआ था। गोपी उस समय एकदम जवान था। उसे देखकर लोगों को आश्चर्य होता था।…
Read More...

स्व.गुरूदत्त एक निष्ठावान फिल्मकार

मायापुरी अंक 52,1975 उर्दू फिल्म बनाने के संबंध में गुरूदत्त की ‘चौदहवीं का चांद’ की कथा दिलचस्प है। गुरूदत्त और जॉनी वाकर में बड़ी दोस्ती थी। एक दिन जॉनी वाकर (जिनका असली नाम बद्रद्दीन काज़ी है) दिग्गदर्शक सादिक बाबू की एक कहानी…
Read More...