INTERVIEW!! फवाद खान – एक “ग्लोबल एक्टर” बनना चाहता हूँ

0 56

लिपिका वर्मा

टेलीविज़न, “हार्ट थ्रोब” फवाद खान भारत वर्ष में भी उतने ही चहेते हैं महिलाओं के जितना कि पाकिस्तान में उन्हें महिलाओं का प्यार मिलता है। पहली फिल्म “खूबसूरत” के बाद बहुत जल्द उनकी दूसरी फिल्म, “कपूर एंड संस” रिलीज़ होने वाली है –
पेश है एक अनूठी बातचीत फवाद के साथ –

इंडिया में काम कर रहे हैं क्या कहना चाहेंगे ?

मैं खुश हूँ कि इंडिया में मुझे इतना मान – सम्मान मिल रहा है। धर्मा प्रोडक्शन एक बहुत ही प्रतिष्ठित प्रोडक्शन हाउस है और इससे जुड़ने में बहुत अच्छा लग रहा है। ‘कपूर एंड संस’ रिलीज़ पर है सो उत्सुकता अपनी जगह बनी हुई है।

भारत वर्ष में काम कर रहे हैं कोई भी अनहोनी घटना घटी है क्या आपके साथ ? मुश्किलात का सामना करना पड़ा आपको ?

बचपन से ही मेरी ख्वाहिश रही है कि मैं इंडिया में काम करूँ। मैं बहुत खुशकिस्मत हूँ कि यहाँ पर मुझे बेहतरीन काम करने को मिल रहा है। मुझे सारी दुनिया की फिल्मों में काम करना है। एक “ग्लोबल एक्टर” बनना चाहता हूँ। हिन्दी फिल्मों में काम करने में कोई भी मुश्किलात का सामना नहीं करना पड़ा मुझे, यहाँ के लोगों ने मुझे ढेर सारा प्यार ही दिया है। सबसे अच्छी बात तो यह है कि हम दोनों देशों की भाषा लगभग एक ही है। हाँ जब में अपनी पहली फिल्म, “खूबसूरत” कर रहा था तब मुझे कई अल्फ़ाज़ बोलने में मुश्किलात हुई थी। क्यूंकि पाकिस्तान से हूँ और उर्दू बोलता हूँ, लेकिन पहली बारी दिक्कत हुई थी अब तो काफी अच्छी हिंदी बोल लेता हूँ।

maxresdefault_1455352564_725x725

आप कभी किसी टेक में अटक गए थे क्या ?

‘कपूर एंड संस’ करते हुए कोई दिक्कत नहीं हुई किन्तु मुझे याद है जब मैं, “खूबसूरत” फिल्म कर रहा था तो एक सीन करते समय लगभग ९ टैक्स देने पड़े। अभिनेता हूँ, सो अभिनय करना मेरा काम है और यह जैसे मैं अपनी तारीफ ही में बोल रहा हूँ कि मुझ में अपने शिल्प के प्रति स्वच्छंदता है और अभिनय इसी वजह से बेहतर कर पाता हूँ।

क्या आपको लगता है दोनों देशों के संबंध फिल्मों द्वारा बेहतर हो सकते हैं ?

क्यों नहीं ? दरअसल में ग्लोबलाइजेशन हो रहा है हमे मिलजुल कर रहना चाहिए और आपस में लड़ना झगड़ना मेरे ख्याल से बचकानापन ही है। ग्लोबल विलेज की बातें होती रहती है किन्तु यदि हम इसे सही मायने में आगे बढ़ायें और अपने मतभेद मिटा कर शांतिपूर्वक जीना चाहिए।

CaoATtlW8AAY8Qv

आप हर लड़की के पसंदीदा एक्टर है क्या कहना चाहेंगे ?

दरअसल में मैंने एक आदर्श पति का किरदार टेलीविज़न पर निभाया था तबसे मैं सब का पसंदीदा एक्टर माना जाने लगा”
कुछ सोच कर बोले, ” यह सुनकर अच्छा लग रहा है कि लड़कियां मुझे बेहद पसंद करती हैं, किन्तु सिद्धार्थ मुझसे झूठ कहते हैं कि “तुझे सब की सब आंटियां ही पसंद करती हैं। आप लोग उनसे यह जरूर कह देना और उनका यह वहम हटा देना” हंस कर बोले फवाद।

हमारे अभिनेताओं को पाकिस्तान में काम क्यों नहीं दिया जाता है ?

ऐसी कोई बात नहीं है। दोनों देशों की आवाम करना चाहती होगी। दरअसल में हमारे पाकिस्तान में टेलीविज़न कुछ ज्यादा चल रहा था क्यूंकि कुछ सालों से फ़िल्में नहीं बन रही थी और आपको यह बतला दूँ कि आज भी नसीरुद्दीन साहब और कई सारे भारतीय अभिनेता अभिनेत्री पाकिस्तान में थिएटर प्लेज करने पाकिस्तान आते हैं।

Alia_Sid_Fawad_Watermelon

इंडिया में क्या बात सबसे अच्छी लगी ?

देखिये, जब हम यहाँ पहुँचते हैं तो मुंबई की पुलिस हमारा बहुत ख्याल रखती है और यह बात बहुत अच्छी लगती है, जभी भी हम उन्हें कहते हैं कि आपकी प्रोटेक्शन नहीं चाहिए हम मेह्फूज हैं यहां पर तब वह कहते हैं कि यदि कुछ अनहोनी हो गयी तो प्रॉब्लम होगी और आप को बता दें पाकिस्तान में भी सब अभिनेताओं को हर प्रोटेक्शन इसी तरह दी जाती है।

Comments
Loading...