Category: रिव्यूज

फिल्म नहीं डॉक्युमेंट्री है ‘आईएसआईएस’

रेटिंग** दुनियां भर में मुस्लिम आंतकवाद का बोल बाला है। इस बात को कितनी ही फिल्मों में बताया जा चुका […]

रिश्तों की संवेदना दर्शाती ‘शेफ’

सैफ अली खान की 'शेफ'

रेटिंग*** एयरलिफ्ट और बारह आना जैसी फिल्में बना चुके निर्देशक राजा कृष्णा मेनन ने इस बार हॉलीवुड फिल्म ‘शेफ’ की […]

बिना कहानी की फिल्म ‘2016 द एंड’

रेटिंग** निर्माता निर्देशक जयदीप चोपड़ा की फिल्म ‘2016 द एंड’ के नाम से पता चल जाता है कि फिल्म एक […]

असरदार रोचक विषय ‘तू है मेरा संडे’

रेटिंग*** बेशक इससे पहले दोस्ती को लेकर कितनी ही फिल्मे आ चुकी हैं। लेकिन निर्देशक मिलिंद थाईमड की फिल्म ‘तू […]

फुल धमाल मनोरजंन यानि ‘जुड़वा 2’

रेटिंग*** कोई डायरेक्टर बीस साल बाद अपनी ही फिल्म का रीमेक बनाये और ये अपने आपमें करिश्मा ही है कि […]

दर्शक से नहीं जुड़ पाती ‘हसीना पारकर’

रेटिंग** बायोपिक फिल्मों की श्रृंखला में इस सप्ताह अपूर्व लाखिया निर्देशित फिल्म ‘हसीना पारकर’ का नाम है। ये फिल्म दाऊद […]

संजू की सशक्त अदाकारी, लेकिन कमजोर फिल्म ‘भूमि’

रेटिंग** ये अब साबित हो चुका है, कि अब फिल्मों में ऐक्टर नहीं सब्जेक्ट चलता है। इसीलिये ओमंग कुमार द्धारा […]

लोकतंत्र का कड़वा सच ‘न्यूटन’

रेटिंग***** अब एक्सपेरिमेंटल सिनेमा या रीयलस्टिक फिल्मों का जमाना है। इन छोटे बजट की फिल्मों के आगे बिग बजट फिल्में […]

साधारण कथा, शानदार अभिनय ‘सिमरन’

रेटिंग*** लगता है कंगना ग्रे शेड भूमिकाओं का पर्याय बन चुकी है। उनकी पिछली कोई भी फिल्म उठाकर देख लीजीये, […]

दर्शकों के टेस्ट पर खरी है ‘लखनऊ सेंट्रल’

रेटिंग*** सच्ची घटना पर आधारित निर्देशक रंजीत तिवारी की फिल्म‘ लखनऊ सेंट्रल’ में जेल की राजनीति, वर्चस्व के लिये मारपीट […]