रिव्यु: फिल्म‘ अलोन’ नहीं डरा पायी

0 66

हाल ही में हुई रिलीज़ हॉलीवुड फिल्म ‘अलोन’ का हिंदी रीमेक ‘अलोन’ दस प्रतिशत भी नही हैं। 1920 ईविल रिर्टसं तथा रागिनी टू जैसी फिल्में बनाने वाले निर्देशक भूषण पटेल इस बार दर्शकों को नहीं डरा पाये। ‘संजना’, ‘अंजना’ यानि बिपाशा बसु दो ऐसी जुड़वा बहने हैं जो अपने बचपन के साथी ‘कबीर’ करण सिंह ग्रोवर को प्यार करती है लेकिन करण संजना को चाहता है।

3681

करीब दस साल बाद करण विदेश से आता है तो संजना से शादी करना चाहता है इसलिये दोनों बहने अलग होने का फैसला कर लेती हैं। लेकिन ऑपरेशन के वक्त ‘अजंना’ की मौत हो जाती है। बाद में करण और संजना शादी के बाद मुबंई में सैटल हो जाते हैं। लेकिन केरल में रह रही बिपाशा की मां नीना गुप्ता का एक्सिडेंट हो जाता है इसलिये उन्हें केरल आना पड़ता है।

alone-19b

केरल आने के बाद संजना को उसकी मरी हुई बहन अंजना दिखाई देने लगती हैं। लेकिन कबीर इस बात में विश्वास नहीं करता। फिर भी वह एक मनोचिकित्सक जाकिर हुसैन से मिलता तो पता चलता है कि संजना ठहक कह रही है। उसके बाद शुरू होता है मौत का सिलसिला। जो बाद में असलियत खुल जाने के बाद खत्म होता है।

????????????????????????

भूषण पटेल इससे पहले अपनी दोनों फिल्मों में दर्शकों को डराने में पूरी तरह सफल रहे लेकिन इस बार वे पूरी तरह से असफल साबित हुये। फिल्म के मध्यातंर तक खुद बिपाशा डरती रहती है लेकिन दर्शक हंसता रहता है। मध्यातंर के बाद कहीं कहीं थोड़ा थ्रिल महसूस होता है। लेकिन फिल्म का कलाईमेक्स अच्छा है।

a

जंहा तक अभिनय की बात है तो ऐसी फिल्मों की भूमिकायें करने में अब बिपाशा सिद्धहस्त हो चुकी हैं। टीवी से फिल्मों में आये करण सिहं ग्रोवर का आगमन सकारात्मक रहा। बिपाशा के साथ उनकी कैमेस्ट्री बढि़या रही। बाकि जाकिर हुसैन, सुलभा आर्य आदि कलाकार अच्छे रहे लेकिन एक अरसे बाद नीना गुप्ता दिखाई दीं वो भी एक ऐसे रोल में जो पूरी तरह से बेअसर साबित हुआ।

alone-movie-picture-18

फिल्म का गीत संगीत भी साधारण रहा। अंत में फिल्म के लिये यही कहा जा सकता है कि इस बार नहीं डरा पायी अलोन।

01

-श्याम शर्मा

Comments
Loading...