अली फजल बने चैरिटी स्माईल ट्रेन के ब्रांड एंबेसडर

0 24

मशहूर एक्टर और मॉडल अली फजल ने मंगलवार को दुनिया के सबसे बडी क्लेफ्ट चैरिटी स्माईल ट्रेन से एम्बेसेडर के रूप में गठजोड़ किया. उनके द्वारा अब देश में कटे होठ/तालू  के साथ जन्म लेने वाले बच्चों में इस प्रकल्प का प्रसार होगा और उन्हे सहयोग मिलेगा. स्माईल ट्रेन इंडिया के साथ गठजोड़ पर अपनी खुशी व्यक्त करते हुए अली फजल नें कहा “साधारण तौर पर कटे होठ/तालू  को वैश्विक सेहत के संकट के रूप में गंभीरता से नहीं लिया जाता. स्माईल ट्रेन ने स्थानीय वैद्यकीय पेशेवरों को सक्षम करने का काम किया है, जिससे कटे होठ/तालू के साथ जन्म लेनेवाले बच्चें और उनके परिवार को खुश रहने का मौका दिया है. इससे उनके बच्चों का भविष्य भी सुनहरा हो गया है.  स्माईल ट्रेन के ब्राण्ड एम्बेसडर बनकर देश में कटे होंठ/तालू के बारे मे काफी जरूरतमंद लोगों तक जानकारी पहुचाने की मैं कोशिश करूंगा.”

मुम्बई में एनएचएसआरसीसी चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल में आयोजित कार्यक्रम में इस गठजोड की घोषणा की गई.  इस अस्पताल में स्माईल ट्रेन इंडिया प्रोग्राम के तहत मुफ्त कटे होठ/तालू पर सर्जरी की जाएगी. अली फजल द्वारा स्माईल ट्रेन – एसआरसीसी क्लेफ्ट प्रोजेक्ट का विमोचन किया गया तथा उन्होंने कटे होठ/तालू से त्रस्त मरिजों के साथ समय बिताकर उनके सपनों को साकार करने के लिए प्रोत्साहित किया.  इस कार्यक्रम में स्माईल ट्रेन के पार्टनर सर्जन डॉ.  नितीन मोकल और उनकी वैद्यकीय टीम भी इस कार्यक्रम के लिए उपस्थित थी.

केवल 18 सालों में हमनें 50 हजार से अधिक बच्चों की मुफ्त सर्जरी करनें में सहयोग दिया है

अली फजल का स्वागत करतें हुए स्माईल ट्रेन की वाईस प्रेसिडेंट और रिजनल डाईरेक्टर- एशिया ममता कैरल ने कहा “अली हमारें साथ जुडकर लोगों में इस बात का प्रसार करेंगे की कटे होठ/तालू  से त्रस्त बच्चें भी संपूर्ण, सेहतमंद और उत्पादक जिंदगी जी सकते हैं, इसकी हमें खुशी है. केवल 18 सालों में हमनें 50 हजार से अधिक बच्चों की मुफ्त सर्जरी करनें में सहयोग दिया है तथा हम दूसरों को भी हमारे इस दृष्टिकोण को फैलानें में सहकार्य करतें है. स्माईल ट्रेन परिवार में मैं अली का स्वागत करती हूं और इस से कटे होठ/तालू के साथ जन्म लेने वाले कई बच्चों की जिंदगी में आशा की किरण दिखाई देने की अपेक्षा करती हूं.”

भारत में 35 हजार से अधिक बच्चों के होठ या तालू में दरार होती है. इस तकलीफ के साथ जन्म लेने वाले बच्चों को खाने, सांस लेने और बोलने में तकलीफ होती है और वे साधारण तौर पर अकेले रहना पसंद करते हैं.  लगभग 45 मिनट चलने वाली एक छोटी सर्जरी करने के बाद उनकी जिंदगी में बड़ा बदलाव आता है और उन बच्चों को स्कूल जाने और समाज के साथ कदम मिलाकर बढ़ने का मौका मिलता है.

स्माईल ट्रेन इंडिया के साथ किए गए गठजोड के बारे में बोलतें हुए एसआरसीसी चिल्ड्रेन्स हॉस्पिटल के मेडिकल डाईरेक्टर डॉ.  सुनू उदानी नें कहा “ स्माईल ट्रेन इंडिया के साथ मुफ्त में  दरारों पर सर्जरी करनें के लिए गठजोड करना हमारें लिए गर्व की बात है.  एसआरसीसी चिल्ड्रेन्स  हॉस्पिटल की ओर से गुणवत्ता के साथ सुरक्षा को सर्वोच्च वरियता दी जाती है,  जो स्माईल ट्रेन इंडिया के तत्वज्ञान से मेल खातें है.  हमें आशा है की इस गठजोड से हम लोगों की जिंदगी में अधिक खुशियाँ बिखेर सकेंगे.”

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 

Comments
Loading...